ADM full form | ADM कौन होता है? व कैसे बनें

ADM full form in hindi – हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम सब ADM full form और ADM से संबंधित बहुत सारी जानकारियों के बारे में अच्छे से पढ़ेंगे ADM का नाम तो आप सभी ने अभी ना कभी कही ना कही तो सुना ही होगा और बहुत से लोगों को तो इसके बारे में ज्यादा कुछ पता ही नहीं होता है। 

और बहुत से लोग Dm और ADM तो लेकर काफी कंफ्यूजन होते और वह इसके बीच का अंतर और इससे संबंधित जानकारियों के बारे में समझ है तो आज के इस आर्टिकल में हम सब एडीएम और उससे संबंधित सभी जानकारियों के बारे में अच्छे से पढ़ेंगे और यह भी जानने कि एडीएम का फुल फॉर्म क्या है। 

ADM कौन होता है, ADM बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए आदि ऐसे और भी एडीएम से संबंधित बहुत सारी जानकारियों के लिए में अच्छे से पढ़ेंगे और आप भी एडीएम से संबंधित पूरी जानकारियों के बारे में अच्छे से जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा अच्छे से पढ़ें इस आर्टिकल में ADM ka full form और एडीएम से संबंधित जानकारियों के बारे में अच्छे से पूरी जानकारियां दी गई है 

ADM full form in hindi  

ADM full form in hindi

ADM ka full form Additional District Magistrate होता है और ADM को हिंदी में अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट कहा जाता है एडीएम को अपर कलेक्टर भी कहा जाता है। ADM जिले के डीएम के बाद दूसरा ऊंचा प्रशासनिक पद है और यह DM के नीचे का पद होता है  

इसे भी पढ़ें। 

IAS full form in hindi 

PSC full form in hindi 

sp full form in hindi 

SSP full form in hindi

ADM कौन होता है 

ADM को हिंदी में अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट कहा जाता है  एडीएम जिले में DM अधिकारी के निचे का पद होता है और देखा जाएं तो ADM , DM का Assistant कि तरह होता है जिले के डीएम को दिन भर में जो भी कार्य सौंपे जाते है उस कार्यो को करने में ADM, District Magistrate (DM) को सहायता प्रदान करता है एडीएम का पद भी काफी पावरफुल पद होता है 

जिले में एडीएम की नियुक्ति DM के कामकाज में मदद करने के लिए किया जाता है DM कि तरह ही एडीएम को जिसे के सभी कोर्यो कि देखरेख और जांच प्रताल करना होता है DM की अनुपस्थिति में जिले के कार्यो को देखना एडीएम का काम होता है। Additional District Magistrate (ADM) को डीएम के समान ही शक्तियाँ प्रदान होती है।

ADM बनने के लिए योग्यता 

बहुत से ऐसे छात्र है जो ADM आफिसर बनना चाहते हैं और एडीएम बनने कि तैयारी करना चाहते हैं लेकिन उन्हें इससे संबंधित योग्यताओं के बारे में अच्छे से पता नहीं होता है तो आइए इसके बारे में भी अच्छे से जान लेते हैं। 

कि एडीएम बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए तो एडीएम बनने के लिए अभ्यर्थियों को किसी भी मान्यता प्राप्त विद्यालय से ग्रेजुएशन पास कि डिग्री होनी चाहिए और एडीएम के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार का भारत का नागरिक होना अनिवार्य है 

ADM बनने के लिए आयु सीमा 

ADM के बनने के लिए अभ्यर्थियों को age limit के बारे में भी अच्छे से जान लेना चाहिए क्योंकि उम्र सीमा को भी लेकर criteria रखीं गई है अभ्यर्थियों कि आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक होनी चाहिए और अगर कैटेगरी वाइज उम्र सीमा कि बात कि जाएं तो 

general category वाले candidates की आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक होनी चाहिए 

OBC category वाले candidates की आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष से लेकर 35 वर्ष तक होनी चाहिए 

ST/SC category वाले candidates की आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष से लेकर 37 वर्ष तक होनी चाहिए 

ADM कैसे बनें 

ADM यानी Additional District Magistrate  आफिसर बनने के लिए अभ्यर्थियों को किसी भी मान्यता प्राप्त विद्यालय से ग्रेजुएशन पास की डिग्री होनी चाहिए और उम्र सीमा कि बात करें तो अभ्यर्थियों कि आयु कम से कम 21 वर्ष से लेकर 32 वर्ष तक होना चाहिए जिसके बाद अभ्यर्थी एडीएम के लिए आवेदन करने के लिए योग्य तो हो जाते हैं। 

जिसके बाद अभ्यर्थियों को (UPSC) यानी संघ लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा को अच्छे नंबरों से पास करना होता है UPSC के परीक्षा को तीन चरणों में आयोजित की जाती है जिसमे से पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा होता है। 

जो अभ्यर्थी प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेते हैं उसे दूसरे चरण की परीक्षा यानी मुख्य परीक्षा में बैठने का मौका मिलता है। मुख्य परीक्षा में सफल हो जाने के बाद अभ्यर्थियों को अंतिम चरण की परीक्षा यानी साक्षात्कार (Interview) के लिए बुलाया जाता है  और

Interview की प्रक्रिया हो जाने के बाद आयोग के द्वारा एक मेरिट सूची जारी की जाती है। मेरिट सूची में जो छात्र अव्वल आए रहते है उनका आईएएस के लिए चयन हो जाता है। आईएएस के लिए सलेक्शन होने वाले छात्रों को दो सालो की ट्रेनिंग दी जाती है। 

ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद एक आईएएस को शुरू में काम करने के लिए एडीएम का पद दिया जाता है और ऐसा जरूरी नहीं है कि आईएएस ऑफिसर को शुरुआत में ADM का पद मिले । 

ADM आफिसर का सैलरी 

एक ADM आफिसर को शुरूआती दौर में सैलरी कितनी मिलती उसकी बात करें तो यह बताना थोड़ा मुश्किल होगा क्योंकि हर राज्य में ADM आफिसर के सैलरी में थोड़ा बहुत अंतर हो सकता है। 

लेकिन फिर बात करें तो शुरुआती समय में 60 हजार रुपए से अधिक ही होता है और समय के साथ सैलरी भी बढ़ती है और इसके साथ में सरकार कि तरफ से बहुत सारी सुविधाएं भी मिलती है  

Conclusion – Adm full form 

हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम सब Adm और ADM full form से संबंधित सभी जरूरी जानकारियों के बारे में अच्छे पढ़ा और हम आशा करते हैं। 

आज के इस आर्टिकल को पूरा पढ़के आपको Adm से संबंधित सभी जरूरी जानकारियों के बारे में जानकारियां प्राप्त हो गई होंगी और अगर आप एडीएम से संबंधित और भी कुछ जानना चाहते हैं या इससे संबंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो हमें निचे कमेंट में लिखकर बताएं।

Leave a Comment