एसएचओ (SHO) का फुल फॉर्म क्या है | sho full form in hindi

SHO का फुल फॉर्म क्या है | sho full form in hindi

sho full form in hindi – इस आर्टिकल में हम sho के बारे में पढ़ेंग क्योंकि बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो पुलिस डिपार्टमेंट में नौकरी पाने का सपना देखते हैं जैसे कोई IPS बनना चाहता है 

तो कोई Inspector बनना चाहता तो एसएचओ बनना चाहता है क्योंकि एक बार पुलिस डिपार्टमेंट में नौकरी मिल जाती है तो बहुत सारे फायदे होते हैं सरकार की तरफ से पुलिस डिपार्टमेंट के कर्मचारियों को काफी सुविधाएं मिलती है

 लेकिन जो पुलिस डिपार्टमेंट में ऊंचे पद पर होते हैं उन अफसरों को सरकार के तरफ से काफी अच्छी सुविधाएं मिलते हैं और अच्छी सैलरी के साथ समाज में काफी सम्मान भी मिलता है और इसीलिए बहुत से लोग पुलिस डिपार्टमेंट में नौकरी करना चाहते हैं 

और कुछ लोग तो पुलिस डिपार्टमेंट में एसएचओ बनना चाहते हैं लेकिन उन लोगों को एसएचओ के बारे में कुछ खास जानकारियां पता नहीं होती है और वह इंटरनेट पर sho कौन बन सकता है, एसएचओ बनने के लिए क्या करना होता है 

इन जैसे सवालों को सर्च करने लगते हैं क्या आप भी sho और एसएचओ का फुल फॉर्म क्या है इन सबके बारे में जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें  इस आर्टिकल में हमने sho से संबंधित जानकारियों के बारे में बताया है  

एसएचओ का फुल फॉर्म क्या है | sho full form in hindi  

sho ka full form या sho का पूरा नाम “Station House Officer” ( स्टेशन हाउस ऑफिसर) होता है और sho को हिंदी में “पुलिस निरीक्षक” कहते हैं एसएचओ पुलिस डिपार्टमेंट का एक उच्च पद होता है 

जो उस एरिया के पुलिस स्टेशन का इंचार्ज होता है पुलिस स्टेशन का इंचार्ज को ही एसएचओ ऑफिसर के नाम से जाना जाता है sho के पद के लिए कोई डायरेक्ट भर्ती नहीं होती है बल्कि पुलिस डिपार्टमेंट में sub inspector के पद पर कार्य कर रहे 

ऑफिसर को ही प्रमोट करके sho के पद पर आफिसर बना दिया जाता है एक एसएचओ आफिसर के शोल्डर पर 3 Star और Outer Shoulder में लाल और ब्लू रंग का Strip Ribbon लगा होता है एसएचओ आफिसर एक ऊंचा पद होता है तो उस sho आफिसर के अधीन सब-इंस्पेक्टर, 

हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल जैसे पदों के कर्मचारियों की एक टीम काम करती है एसएचओ आफिसर बनने के बाद उस आफिसर को उस एरिया के पुलिस स्टेशन की कानून व्यवस्था बनाए रखना एवं मैनेज करना होता है 

तथा उस एरिया के सभी प्रकार के कानून में होने वाले विधि अपराधों की खोजबीन और जांच पड़ताल करना अपने अंदर solve करना होता है यह सब जिम्मेदारी एसएचओ के ऊपर होती है  

इसे भी पढ़ें ।

SDO का फुल फॉर्म क्या है 

SDM का फुल फॉर्म क्या है

UPSC का फुल फॉर्म क्या है 

IAS का फुल फॉर्म क्या है

एसएचओ (SHO) कैसे बनते हैं 

पुलिस डिपार्टमेंट में अन्य पदों के लिए भर्तियां तो निकाली जाती है लेकिन sho के पद के लिए किसी भी प्रकार कि भर्तियां नहीं निकाली जाती है क्योंकि उसी पुलिस स्टेशन के sub-inspector का प्रमोशन होने के बाद उसे पुलिस स्टेशन का एसएचओ यानी कि incharge बना दिया जाता है 

यह जरूरी भी नहीं है कि sub-inspector को ही एसएचओ बनाया जाता है ASI को भी पुलिस स्टेशन का एसएचओ बनाया जाता है जैसे मान लीजिए कोई छोटा सा गांव है जिसमें एक छोटा पुलिस स्टेशन है और उसमें ASI आफिसर ही है 

और उससे ऊंचे पद का को आफिसर नहीं और वह ASI ही उस पुलिस स्टेशन के सारे कार्यों को संभालता है तो उस ASI को ही उस पुलिस स्टेशन का एसएचओ बना दिया जाता है 

एसएचओ (sho) आफिसर के कार्य 

sho आफिसर एक एरिया के पुलिस स्टेशन का इंचार्ज होता है और उस एसएचओ को उस एरिया कानून व्यवस्था बनाए रखने कि जिम्मेदारी होती है 

पुलिस स्टेशन किसी भी प्रकार कि केस आने पर उसकी इंक्वायरी करना जांच पड़ताल करना एवं अपने अधीन कार्य कर रहे कर्मचारियों को कार्य सौंपना एवं उन्हें मैनेज करना और अपने एरिया में किसी भी प्रकार की इंलीगल एक्टिविटीओं की जानकारी मिलने पर जांच पड़ताल करना आदि कार्यों की जिम्मेदारी एसएचओ आफिसर के ऊपर होती है

एसएचओ आफिसर की सैलरी 

हमने sho के बारे में इतना कुछ तो जान लिया लेकिन बहुत से लोगों के मन यह सवाल अक्सर आता है कि एक एसएचओ आफिसर की सैलरी कितनी होती है पुलिस स्टेशन के इंचार्ज यानी कि एसएचओ की सुरूआती 27,000 रुपए से लेकर 1,040,000 रुपए के बीच में उस प्रदेश के सरकार द्वारा दिया जाता है 

पुलिस अधिकारियों की सैलरी की सूची | sho police salary

  • Assistant Sub Inspector (ASI) – (60600) रूपये/प्रतिमाह
  • Sub Inspector Wireless Officer – (27900 – 1,04,400) रूपये/प्रतिमाह
  • Sub Inspector (Radio Tech) – (27900 – 1,04,400) रूपये/प्रतिमाह
  • Sub Inspector (Storeman Tech) – (27900 – 1,04,400) रूपये/प्रतिमाह
  • Inspector – (27900 – 1,04,400) रूपये+ग्रेड/प्रतिमाह
  • Assistant Commissioner of Police (ACP) – (46800 – 1,17,300) रूपये+ग्रेड/प्रतिमाह
  • Deputy Commissioner of Police (DCP) – (46800 – 1,17,300) रूपये+ग्रेड/प्रतिमाह
  • Indian Police Service (IPS) – (46800 – 1,17,300) रूपये+ग्रेड/प्रतिमाह
  • Special Commissioner of Police – (1,12,000 – 2,01,000) रूपये+ग्रेड/प्रतिमाह
  • Deputy Inspector of General (DIG) – 2,01,000 रूपये/प्रतिमाह
  • Inspector General (IG) – (1,12,000 – 2,01,000) रूपये/प्रतिमाह
  • Additional Director General – (2,05,400) रूपये/प्रतिमाह 

FAQ – लोगों द्वारा पूछे गए अन्य सवाल 

Q.1- sho full form in hindi?

–एसएचओ का फुल फॉर्म “Station House Officer” होता है.

Q.2- sho full form in english? 

–Sho ko English में (स्टेशन हाउस ऑफिसर) कहा जाता है.

Q-3 एस एच ओ क्या है?

–थाना प्रभारी को SHO बोलते है. 

Q-4 SHO meaning in police?

— पुलिस स्टेशन के गृह अधिकारी को police station house officer कहा जाता है.

Q.5 एसएचओ का काम क्या होता है? 

–sho उस एरिया के पुलिस स्टेशन का इंचार्ज होता है और उसके ऊपर बहुत सारी जिम्मेदारियां होती है जैसे कि किसी भी प्रकार शिकायत दर्ज होने पर उसपर एक्सन लेना एवं अपने एरिया में कानून व्यवस्था बनाए रखना और बहुत से काम sho को करना होता है.

Q.6 sho कैसे बने?

–sho के पद के लिए किसी भी प्रकार की कोई भी भर्ती नहीं निकाली जाती है बल्कि उस पुलिस स्टेशन के sub inspector, inspector को ही उनका प्रमोशन होते के बाद sho के पद पर प्रमोट कर दिया जाता है.

Conclusion – SHO full form in hindi 

आज के इस आर्टिकल में हम सबने SHO के बारे में अच्छे से पढ़ा जैसे कि SHO full form in hindi, SHO कैसे बनते हैं, sho आफिसर के कार्य, SHO आफिसर की सैलरी, पुलिस अधिकारियों की सैलरी की सूची, इसके जैसे और भी बहुत एसएचओ से संबंधित जानकारियों के बारे में पढ़ा और हमें उम्मीद है 

कि आपने इस आर्टिकल को अच्छे से पूरा पढ़ा होगा और इस आर्टिकल को पढ़ के एसएचओ के बारे में अच्छे से जान गए होंगे और अगर आप एसएचओ से रिलेटेड कुछ और जानना चाहते हैं या इससे रिलेटेड कोई किसी प्रकार की कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो हमें कमेंट में लिखकर जरूर बताएं धन्यवाद। 

Leave a Comment